#SGSD #Confession 1216

mera relationship 5 years se hai ek ladke ke saath (P) ke saath, kehne ko toh woh bus ek relationship​ hi tha but pyaar toh bahut pehle hi khatm ho chuka tha mera uske saath kyuki woh pyaar toh karta tha thora mora but woh bahut hi aggressive tha Mujhe Hurt karta tha aur bahut hi gandi gandi gaaliya deta tha.. mera bus usse saath isliye thi kyuki ek samay woh mujhpe bahut ahsaan kiya tha jab mera financial problems tha, aur jab Mujhe bimaar hua tha toh woh hi medical Ka treatment karwaya tha.. fir mere zindagi me ek ladka aaya (A) kehne ko toh woh Mujhe 2 years chota hai, hum same hi colony ke the, jab usne Mujhe first time baat kiya fir chat hua new new me Mujhe laga hum bus dost bannenge fir dheere dheere Kab ek dusre se itna pyaar hua pata hi nhi chala.. (A) ko mera relationship ke baare me malum tha fir v hum baatein karte the.. Mujhe aisa lagne laga jaisa mein socha tha ki mera life ke koi aisa ho woh sab (A) me tha caring loyalty sab kuch, fir ek din usne Mujhe pucha kya tm mujhse pyaar karti ho kyuki sayad Mujhe lagta hai ki mein tmse Karna laga hoon, aur Jo dil me tha mera woh nikal Gaya YES.., honestly (A) bahut hi acha ladka hai.. fir hum dono saath me date karne lage, hum dono ghumte the bike pe, actually hum dono Ka natural bilkul same tha thora sa sararat, pagalpan, funny aur usse Mujhe Kavi change hone ko nhi kaha balki hum dono ek dusre Ka saath dete the, 1 year kab beet Gaya malum hi nhi hua, mein apna sab gum bhool chuki thi aur bus pagolo ki tarah usse pyaar karne laga aur woh Mujhe Mujhse v double pyaar karta hai… Fir ek din (P) ko pata chal Gaya woh Mujhe gandi gandi gaaliya dene laga, wese (A) ke aane se pehle v meine (P) ko phele hi bahut baar bol chuki thi ki mujhe Chor De mein apse pyaar nhi karti hoon, lekin v woh Mujhe hurt karta tha maarne aur Marne Ka dhamki deta tha mein bahut darti thi aur dar ke saath rehti thi.. but is baar meine himat karke kaha Mujhe apke saath nhi rehna Mujhe (A) se pyaar hai.. woh (A) ko Marne Ka dhamki De rha tha, mein dar gayi fir (A) ne Mujhe kaha tm mat daro Mujhe kuch nhi hoga tm agar pyaar nhi karti ho toh mein tmahara saath hoon, kisi Ka himat nhi tmhe kuch karne Ka aur Mujhe kisi se v dar nhi hai… (A) avi tak mera saath hai aur Mujhse bahut pyaar karta hai.. ab (P) Mujhe emotionally bol rha hai plz wapas aa jao, tm Dono Ka bich Jo v hua mein bhool jaunga mein sudhaar jaunga tmhare liye.. meine apne dost se v consult kiya sab (P) Ka saath deti hai bolti hai woh tmpe bahut aisaan kiya hai, haan ye sach hai Aisaan toh bahut hai but mein usse pyaar nhi karti bus humdardi hai uske liye.. bich bich me aisa feel ho rha hai Mujhe agar (P) ko Chor du toh ye ek selfish hoga kyuki bahut aisaan hai uska mera par pyaar toh avi v (A) se hi karti hoon woh v bahut Jada.. aur saayad utna pyaar kisi se v nhi Kar paungi… (A) ne Mujhese bus itna hi kaha I lop u forever but mein tmhe kisi Ka saath share nhi Kar paunga so agar tm usse fully Chor nhi paa rahi ho toh plz Mujhe Chor do, mein tmhe bilkul kharb nhi paunga aur utna hi respect karonga jitna pehle karta tha.. mein bahut confuse hoon really.. aur (A) bus mera decision Ka wait me hai.. woh bolta hai Jo b decision lo bus make sure tm khush raho uspe… Kyuki usse bus meri khushi hi chahiye..

 art_drawing_love_heart_confession_girl_31597_3840x2160
Advertisements

#SGSD #Confession 1210

My dear,my husband is not what I had expected. He has a man hood that disappoints me and I want to break up. DIVORCE .She declare and things are so bad now ,pls help me get her solution. Iam a single woman but will not want to see a friend who love her husband to get to divorce. According to her his manhood is veru short and that’s her problem.art_drawing_love_heart_confession_girl_31597_3840x2160

#SGSD #Confession 1208

Me and my bf used to love each other and were in relationship for past 6 years. His parents are not wiling and doesnot want him to marry me. He left me 2 years back that his parents are not will. And thn v both moved on he got engaged. He thn came bck to me 8 months back that he cannot live with out me and wants to marry me at any cost . And wants to fight the whole world for him and me. Wel he took a stand told his parents and his fiance. Every one was upset but his parents said go and marry her but then dunt keep any relationship with us. Then last week the whole of hia family knew amd all started insulting him and started looking at him with disgust that he being engaged is saying so. He lasly txt me that i m sory i fought but i failed. My family wont exept u with open arms and life wil be hell for both of us. I told him that common its just a strt of a vry difficult step u hav decided to take thing wil b back to norml aftr few years u just stand by ur descusion. But he didnot listen to me and said u do not understand the situatuon at my side. And left me once again . I was so shoked and felt so disrespected . That once again he left me with same old reason. Can u all tell me is he justified in wat he said?? Shall i forgive him for wat he has done to me?.i want to take a revenge frm him and dunt want to see him hapy ever… plz help meeart_drawing_love_heart_confession_girl_31597_3840x2160

Please Read & change your thoughts……

आज कल लोगों को बहु नहीं…
आल राउंडर चाहिए ….
सुबह चार बजे उठ के नहा भी ले
पूजा भी कर ले
लता मंगेशकर की आवाज़ में….
मीना कुमारी सी सुन्दर…
नंदा से बाल….
मुंह से एक शब्द न बोले…
नाचे तो माधुरी दिक्सित ….
कितना भी सता लो
निरूपराय की तरह छुप के रो ले ….

डॉ के यहाँ कभी न जाए…
आराम करना तो भूल ही जाये …
दस बजे नौकरी पर भी जाये..
सभी की पसंद का नाश्ता बना के …
शाम को पांच बजे ऑफिस बंद हो..
और बहु पांच मिनट में ही घर आ जाये..
बाज़ार से सारा सामान भी खुद ले के आये सास के पैर दबाये….
बालों में फूल गूंथ के पति को रिझाए… बच्चों का होम वर्क भी कराये…
मायके न जाये और वहां की बुराई
मुस्कुरा के सुने …
उसके बाद भी सुनने को मिले…
इसकी छोटी बहन ज्यादा
अच्छी है इससे…
काश अपने बेटे की शादी उसी से करते..
12814734_243781465956012_7925978176384735755_n

DAUGHTER LOVE

she: Papa i lv u
papa: i lv u to meri bacchi
.
she: Or papa shop me kam kaisa chl rha hai
papa: Sb accha
.
she: Or itte paise karoge kya????
thak jate ho sara din kam krke, lao sir daba deti hu
papa: Are kiti seva krregi tu meri ek din tujhe v to shadi krke jana hai na
.
she: Mujhe smjh hi ni aata aap bar bar shadi ki bat q krte ho, avi itti bdi nahi hui hu mai……..
.
papa: Are tu ku ni smjhti bacchi meri sbko jana hota hai ek din

she: Papa late v kar skti hu na mai shadi…..,
.
Beautiful_answer_by_dad
//pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js

(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});

papa: accha bata tujhe gulab ki kali psnd hai ya khila hua ful jada psnd hai????
.
she: ofcurse papa kali kunki wo bht hi sundar or pyari hoti hai
.
papa: Bus fr yhi karan h m teri wqt pe shadi krna chahta hu, avi tu kali hai na baccha dheere dheere ful ban jayegi……..
Jab kali hoti h ladkiya to sbko psnd aa jati hai or wqt pe shadi ho jati hai…..
smjhi baki meri ladli pari to tu hmesha rhegi
.
She: Aap hmesa apne xamples se meko hara dete ho or khud jeet jato ho……
thk h kra do shadi bt yad rkhna shadi k bad b kisses lungi or aapka sir dabaungi
.
papa: Hahahaha ha baba thk tujhe jo thk lgega krna shadi k liye to tu mani aaja
.
papa hugs her
.
******** No love is better nd above than dad love.
only he can answer about your all question he is superhero of girls nd boys too******14606389_351528891847935_2009802879258119940_n Continue reading “DAUGHTER LOVE”

*तलाक स्पेशल : must read

रविवार को फुरसत से…..
तब मैं (लेखक) जनसत्ता में नौकरी करता था। एक दिन खबर आई कि एक आदमी ने झगड़ा के बाद अपनी पत्नी की हत्या कर दी। मैंने खब़र में हेडिंग लगाई कि पति ने अपनी बीवी को मार डाला। खबर छप गई। किसी को आपत्ति नहीं थी। पर शाम को दफ्तर से घर के लिए निकलते हुए प्रधान संपादक प्रभाष जोशी जी सीढ़ी के पास मिल गए। मैंने उन्हें नमस्कार किया तो कहने लगे कि संजय जी, पति की बीवी नहीं होती।

“पति की बीवी नहीं होती?” मैं चौंका था।

“बीवी तो शौहर की होती है, मियाँ की होती है। पति की तो पत्नी होती है।”

भाषा के मामले में प्रभाष जी के सामने मेरा टिकना मुमकिन नहीं था। हालांकि मैं कहना चाह रहा था कि भाव तो साफ है न? बीवी कहें या पत्नी या फिर वाइफ, सब एक ही तो हैं। लेकिन मेरे कहने से पहले ही उन्होंने मुझसे कहा कि भाव अपनी जगह है, शब्द अपनी जगह। कुछ शब्द कुछ जगहों के लिए बने ही नहीं होते, ऐसे में शब्दों का घालमेल गड़बड़ी पैदा करता है।

प्रभाष जी आमतौर पर उपसंपादकों से लंबी बातें नहीं किया करते थे। लेकिन उस दिन उन्होंने मुझे टोका था और तब से मेरे मन में ये बात बैठ गई थी कि शब्द बहुत सोच-समझ कर गढ़े गए होते हैं।
//pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js

(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});

खैर, आज मैं भाषा की कक्षा लगाने नहीं आया। आज मैं रिश्तों के एक अलग अध्याय को जीने के लिए आपके पास आया हूँ। लेकिन इसके लिए आपको मेरे साथ निधि के पास चलना होगा।

निधि मेरी दोस्त है। कल उसने मुझे फोन करके अपने घर बुलाया था। फोन पर उसकी आवाज़ से मेरे मन में खटका हो चुका था कि कुछ न कुछ गड़बड़ है। मैं शाम को उसके घर पहुँचा। उसने चाय बनाई और मुझसे बात करने लगी। पहले तो इधर-उधर की बातें हुईं, फिर उसने कहना शुरू कर दिया कि नितिन से उसकी नहीं बन रही और उसने उसे तलाक देने का फैसला कर लिया है।

मैंने पूछा कि नितिन कहाँ है, तो उसने कहा कि अभी कहीं गए हैं, बता कर नहीं गए। उसने कहा कि बात-बात पर झगड़ा होता है और अब ये झगड़ा बहुत बढ़ गया है। ऐसे में अब एक ही रास्ता बचा है कि अलग हो जाएँ, तलाक ले लें।

मैं चुपचाप बैठा रहा।

निधि जब काफी देर बोल चुकी, तो मैंने उससे कहा कि तुम नितिन को फोन करो और घर बुलाओ, कहो कि संजय सिन्हा आए हैं।

निधि ने कहा कि उनकी तो बातचीत नहीं होती, फिर वो फोन कैसे करे?
//pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js

(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});

अज़ीब संकट था। निधि को मैं बहुत पहले से जानता हूँ। मैं जानता हूँ कि नितिन से शादी करने के लिए उसने घर में कितना संघर्ष किया था। बहुत मुश्किल से दोनों के घर वाले राज़ी हुए थे, फिर धूमधाम से शादी हुई थी। ढेर सारी रस्म पूरी की गईं थीं। ऐसा लगता था कि ये जोड़ी ऊपर से बन कर आई है। पर शादी के कुछ ही साल बाद दोनों के बीच झगड़े होने लगे। दोनों एक-दूसरे को खरी-खोटी सुनाने लगे। और आज उसी का नतीज़ा था कि संजय सिन्हा निधि के सामने बैठे थे, उनके बीच के टूटते रिश्तों को बचाने के लिए।

खैर, निधि ने फोन नहीं किया। मैंने ही फोन किया और पूछा कि तुम कहां हो ? मैं तुम्हारे घर पर हूँ, आ जाओ। नितिन पहले तो आनाकानी करता रहा, पर वो जल्दी ही मान गया और घर चला आया।

अब दोनों के चेहरों पर तनातनी साफ नज़र आ रही थी। ऐसा लग रहा था कि कभी दो जिस्म-एक जान कहे जाने वाले ये पति-पत्नी आँखों ही आँखों में एक-दूसरे की जान ले लेंगे। दोनों के बीच कई दिनों से बातचीत नहीं हुई थी।
नितिन मेरे सामने बैठा था। मैंने उससे कहा कि सुना है कि तुम निधि से तलाक लेना चाहते हो?
उसने कहा, “हाँ, बिल्कुल सही सुना है। अब हम साथ नहीं रह सकते।”

मैंने कहा कि तुम चाहो तो अलग रह सकते हो। पर तलाक नहीं ले सकते।

“क्यों?”

“क्योंकि तुमने निकाह तो किया ही नहीं है।”

“अरे यार, हमने शादी तो की है।”

“हाँ, शादी की है। शादी में पति-पत्नी के बीच इस तरह अलग होने का कोई प्रावधान नहीं है। अगर तुमने मैरिज़ की होती तो तुम डाइवोर्स ले सकते थे। अगर तुमने निकाह किया होता तो तुम तलाक ले सकते थे। लेकिन क्योंकि तुमने शादी की है, इसका मतलब ये हुआ कि हिंदू धर्म और हिंदी में कहीं भी पति-पत्नी के एक हो जाने के बाद अलग होने का कोई प्रावधान है ही नहीं।”

मैंने इतनी-सी बात पूरी गंभीरता से कही थी, पर दोनों हँस पड़े थे। दोनों को साथ-साथ हँसते देख कर मुझे बहुत खुशी हुई थी। मैंने समझ लिया था कि रिश्तों पर पड़ी बर्फ अब पिघलने लगी है। वो हँसे, लेकिन मैं गंभीर बना रहा।
//pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js

(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});

मैंने फिर निधि से पूछा कि ये तुम्हारे कौन हैं?

निधि ने नज़रे झुका कर कहा कि पति हैं। मैंने यही सवाल नितिन से किया कि ये तुम्हारी कौन हैं? उसने भी नज़रें इधर-उधर घुमाते हुए कहा कि बीवी हैं।

मैंने तुरंत टोका। ये तुम्हारी बीवी नहीं हैं। ये तुम्हारी बीवी इसलिए नहीं हैं क्योंकि तुम इनके शौहर नहीं। तुम इनके शौहर नहीं, क्योंकि तुमने इनके साथ निकाह नहीं किया। तुमने शादी की है। शादी के बाद ये तुम्हारी पत्नी हुईं। हमारे यहाँ जोड़ी ऊपर से बन कर आती है। तुम भले सोचो कि शादी तुमने की है, पर ये सत्य नहीं है। तुम शादी का एलबम निकाल कर लाओ, मैं सबकुछ अभी इसी वक्त साबित कर दूँगा।

बात अलग दिशा में चल पड़ी थी। मेरे एक-दो बार कहने के बाद निधि शादी का एलबम निकाल लाई। अब तक माहौल थोड़ा ठंडा हो चुका था, एलबम लाते हुए उसने कहा कि कॉफी बना कर लाती हूं।

मैंने कहा कि अभी बैठो, इन तस्वीरों को देखो। कई तस्वीरों को देखते हुए मेरी निगाह एक तस्वीर पर गई जहां निधि और नितिन शादी के जोड़े में बैठे थे और पाँव-पूजन की रस्म चल रही थी। मैंने वो तस्वीर एलबम से निकाली और उनसे कहा कि इस तस्वीर को गौर से देखो।

उन्होंने तस्वीर देखी और साथ-साथ पूछ बैठे कि इसमें खास क्या है?

मैंने कहा कि ये पैर-पूजन की रस्म है। तुम दोनों इन सभी लोगों से छोटे हो, जो तुम्हारे पाँव छू रहे हैं।

“हाँ तो?”

“ये एक रस्म है। ऐसी रस्म संसार के किसी धर्म में नहीं होती, जहाँ छोटों के पाँव बड़े छूते हों। लेकिन हमारे यहाँ शादी को ईश्वरीय विधान माना गया है, इसलिए ऐसा माना जाता है कि शादी के दिन पति-पत्नी दोनों विष्णु और लक्ष्मी के रूप हो जाते हैं। दोनों के भीतर ईश्वर का निवास हो जाता है। अब तुम दोनों खुद सोचो कि क्या हज़ारों-लाखों साल से विष्णु और लक्ष्मी कभी अलग हुए हैं? दोनों के बीच कभी झिकझिक हुई भी हो तो क्या कभी तुम सोच सकते हो कि दोनों अलग हो जाएँगे? नहीं होंगे। हमारे यहाँ इस रिश्ते में ये प्रावधान है ही नहीं। तलाक शब्द हमारा नहीं है। डाइवोर्स शब्द भी हमारा नहीं है।”

यहीं दोनों से मैंने ये भी पूछा कि बताओ कि हिंदी में तलाक को क्या कहते हैं?

दोनों मेरी ओर देखने लगे। उनके पास कोई जवाब था ही नहीं। फिर मैंने ही कहा कि दरअसल हिंदी में तलाक का कोई विकल्प नहीं। हमारे यहाँ तो ऐसा माना जाता है कि एक बार एक हो गए तो कई जन्मों के लिए एक हो गए। तो प्लीज़ जो हो ही नहीं सकता, उसे करने की कोशिश भी मत करो। या फिर पहले एक दूसरे से निकाह कर लो, फिर तलाक ले लेना।

अब तक रिश्तों पर जमी बर्फ काफी पिघल चुकी थी।
निधि चुपचाप मेरी बातें सुन रही थी। फिर उसने कहा कि

भैया, मैं कॉफी लेकर आती हूँ।
//pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js

(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});

वो कॉफी लाने गई, मैंने नितिन से बातें शुरू कर दीं। बहुत जल्दी पता चल गया कि बहुत ही छोटी-छोटी बातें हैं, बहुत ही छोटी-छोटी इच्छाएँ हैं, जिनकी वज़ह से झगड़े हो रहे हैं।

खैर, कॉफी आई। मैंने एक चम्मच चीनी अपने कप में डाली। नितिन के कप में चीनी डाल ही रहा था कि निधि ने रोक लिया, “भैया इन्हें शुगर है। चीनी नहीं लेंगे।”

लो जी, घंटा भर पहले ये इनसे अलग होने की सोच रही थीं और अब इनके स्वास्थ्य की सोच रही हैं।
मैं हँस पड़ा। मुझे हँसते देख निधि थोड़ा झेंपी। कॉफी पी कर मैंने कहा कि अब तुम लोग अगले हफ़्ते निकाह कर लो, फिर तलाक में मैं तुम दोनों की मदद करूँगा।
जब तक निकाह नहीं कर लेते तब तक “हम्मा-हम्मा-हम्मा, एक हो गए हम और तुम” वाला गाना गाओ, मैं चला।

मैं जानता हूँ कि अब तक दोनों एक हो गए होंगे। हिंदी एक भाषा ही नहीं संस्कृति है।

***Save girl safe doughter***